पंजीकृत ट्रेडमार्क व व्यापार चिन्ह के फायदे

पंजीकृत ट्रेडमार्क व्यवसाय के लिए एक अमूर्त संपत्ति है और इसका उपयोग किसी ब्रांड में कंपनी के निवेश की रक्षा के लिए किया जाता है एवं किसी दूसरे व्यक्ति या कंपनी को पंजीकृत टर्डेमार्क के इस्तेमाल को रोकने के लिए किया जाता है।

ट्रेडमार्क आवेदन भारत सरकार के बौद्धिक संपदा विभाग को किया जाता है । विभाग द्वारा तीन दिनों के भीतर ट्रेडमार्क आवेदन संख्या सौंपा जाता है लेकिन इसके पंजीकृत होने में लगभग दो साल लगते हैं उसी के बाद आप अपने ब्रांड के साथ ® प्रतीक का उपयोग कर सकते है

ट्रेडमार्क पंजीकरण या टीएम tm रजिस्ट्रेशन siddhast (सिद्धस्त) में एमपनेलड (emapneled) वकीलों के माध्यम से किया जा सकता है, दिल्ली एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई और अन्य सभी भारती शहरों में हम यह सुविधा प्रदान करते हैं।

कानूनी सुरक्षा

ट्रेडमार्क पंजीकरण के बाद ट्रेडमार्क के कानूनी स्वामी बन जाते हैं और कोई अन्य व्यक्ति को आपके पूर्व अनुमति के बिना अपने पंजीकृत ट्रेडमार्क का उपयोग करने से रोकने का अधिकार आपको मिल जाता है।

यदि कोई ट्रेडमार्क सरकार के साथ पंजीकृत नहीं है तो दूसरी पार्टी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती है।

अद्वितीय पहचान

ट्रेडमार्क पंजीकरण के सर्वोत्तम गुणों में से एक यह है कि यह आपकी कंपनी की एक अद्वितीय पहचान स्थापित करने में मदद करता है। और कोई अन्य प्रतियोगी आपके ट्रेडमार्क को समान या सेवाओं में आपकी अनुमति के लगा कर बेच सकता है।

संपत्ति का निर्माण

पंजीकृत ट्रेडमार्क एक परिसंपत्ति के रूप में कार्य करती है क्योंकि ट्रेडमार्क के मालिक उसेआसानी से बेच सकते हैं, फ्रैंचाइज़ी कर सकते हैं या किसी अन्य पार्टी को अनुबंध के आधार पर उसे दे सकते हैं।

ट्रस्ट या गुडविल

जैसा कि पंजीकृत ट्रेडमार्क आपके उत्पाद को विशिष्टता लाता है, यह आसानी से आपके ग्राहक के दिमाग में विश्वास, सद्भावना और गुणवत्ता की भावना पैदा कर सकता है।

अपने ब्रांड को लोकप्रिय बनाएं

पंजीकृत ट्रेडमार्क आसानी से खोजा जा सकता है क्योंकि यह सरकारी ट्रेडमार्क डेटाबेस में उपलब्ध है। यह आपके लोगों के बीच लोकप्रिय होने में भी मदद करता है कानूनी सुरक्षा

Share This: